Menu
  • News paper
  • Video
  • Audio
  • CONTACT US
  • नाकोडा दरबार (मण्डल) लालबाग   14 May 2018 1:17 AM

    साहित्य भूषण पद

    कलिकाल कल्पतरु विश्वपूज्य अभिधान राजेन्द्र कोष रचियता, भरतपुर के लाल, मोहनखेड़ा के महाराज,भक्तों दिल मे,कण कण में बसने वाले मोक्ष का राजतिलक करनेवाले,आचार्य श्री राजेन्द्रसूरीश्वरजी महाराज साहेब  के संग दादा श्रीमान उम्मेदमलजी ढालावत परिवार गुरुदेव  हाजरी साथ विचरण   "उमेद अनुभव"
    गीतों के रचियता इस परम्परा को परम् उपकारी गुरुदेव पूण्य सम्राट लोकसंत आचार्य श्रीमद्विजय जयंतसेनसुरीश्वरजी महाराज साहेब परिवार के गुरु का सानिध्य शा मोहनलालजी ढालावत को मिला।जिन शासन को दो फिल्म बनाकर भेट की ,अमर कुमार और युग पुरुष श्रीमद राजेन्द्रसूरी। जिसकी कहानी और पट कथा लिखी।

    एक कड़ी और जुड़ी हम सबके अतिप्रिय श्री प्रदीपजी मोहनलालजी  ढालावत अपने गुरुकृपा से पिताजी के नक्शे कदम चलना सुरु किया मातुश्री पवनबेन ढालावत आशीर्वाद से आगे बफह रहे थे की अनुज श्री धर्मेद्रकुमारजी ढालावत के देहांत से हिम्मत टूट गई थी परंतु फिर से गीत लिखने की भावना आगे बढ़ाई।प्रदीपजी ढालावत की दो छोटी प्यारी बहन वन्दना, मनीषा,प्रगति की सूत्रधार श्रीमती शंकुतलाबेन ढालावत तथा पुत्री और पुत्र का भी योगदान उल्लेखनीय है।

    प्रदीपजी ढालावत  जैन समाज की धरोहर है में श्री  पार्श्व प्रभु भैरुदादा से विनंती करता हुँ आप यूँही प्रगति करते रहना

    नाकोडा दरबार द्वावरा 
    कविराज रत्न पदवी से अलंकृत किया   गया था

    श्री मुनिसुव्रतस्वामी मित्र मंडल भायंदर द्वावरा
    साहित्यरत्न पदवी से अलंकृत किया गया था

    चाणौद गाव से "चाणोद प्रतिभा" पदवी  से अलंकृत किया गया था।

    पुन्य  सम्राट जयंतसेन सुरिजिनकी निश्रा में,अ.भा. श्री राजेन्द्र जैन नवयुवक परिषद के राष्ट्रीय मंच से सम्मान मिला था।

    जोगेश्वरी जैन संघ,पारसनगर जैन संघ( जोगेश्वरी), द्वारा सम्मानित किया गया।

    एक आध्य  और जुड़ गया 

    मुम्बई राजस्थान द्वावरा 
    साहित्यभूषण पदवी अलंकृत किया गया है

    पदवी से अलंकृत होना है
    माँ पिता, गुरुकुपा, माँ सरस्वती देवी को समर्पण

    आज बाली गांव के सदाबहार , हरफनमौला ललितजी शक्ति द्वारा मुम्बई राजस्थान की 13 वी वर्षगांठ निमित विशेष सहयोगी नाकोडा भैरव मण्डल पायधुनि रहा था,  श्री पार्श्व भैरव भक्ति के  साथ साथ सभी संगीतकारों का बहुमान किया गया विशेष मंच संचालन श्री भरतजी कोठारी सरल शानदार तरीके मन संचालन किया मेरे अजीज श्री ललितजी सोनीगरा के सुपुत्र संगीतकार श्री निखिलजी सोनीगरा भक्ति जानदार समा बाँधा था
    इस संपूर्ण कार्यक्रम के लाभार्थी परिवार मेरा अजीज स्वर्गवासी जयन्तिलालजी भुरमलजी तवरेचावोरा खिवान्दी  की पुण्यतिथि निमित मातुश्री गमीबाई भुरमलजी तवरेचा वोरा, परिवार द्वारा लिया गया था ।

    कार्यक्रम में हम सबके लाडले मेरे अनुज श्री प्रदीपजी मोहनलालजी  ढालावत चाणोद,  को विशाल जनभेदनी में "साहित्य भूषण पद" से अंलकृत किया गया।
    ये हम सभी के लिए बहुत ही गौरव की बात है।

    खुब खुब अनुमोदना 

    नाकोडा दरबार (मण्डल) लालबाग, मुम्बई
    मनोज शोभावत, भरत कोठारी, नवरत्न धोका, भंवर छाजेड़


    STAY CONNECTED

    FACEBOOK
    TWITTER
    YOUTUBE